Question: कुंडली मिलान क्या है?

कुंडली मिलान कैसे करें?

कुंडली मिलान कैसे करें ? आप शादी से पहले किसी ज्योतिष की मदद से कुंडली मिलान करवा सकते हैं। इसके लिए आपको वर-वधु का नाम, उनकी जन्म की तिथि, जन्मस्थान और जन्म का समय ज्योतिष को बताना होगा। ज्योतिष शास्त्र के अंतर्गत आपकी जन्म से जुड़ी हुई जानकरी जैसे तिथि, समय और स्थान की मदद से कुंडली बनते हैं।

कुंडली मिलान में क्या क्या देखना चाहिए?

कुंडली मिलान से ही मांगलिक दोष और उसके परिहार (यदि कोई हो) की जानकारी संभव है। प्रचलित गुण मिलान राशि और नक्षत्र पर आधारित है, जिसमें विशेषकर गण, भकूट एवं नाडी दोष का विचार किया जाता है। दोनों के भाग्य, धन-दौलत, संतान सुख, कार्य-व्यवसाय, मकान, वाहन आदि जीवन के समस्त पहलुओं का विचारजन्म कुंडली मिलान से ही संभव है।

गुण कैसे मिलाये जाते है?

कुंडली में मुख्य रूप से 8 चीजों का मिलान होता है जैसे गण, ग्रहमैत्री, नाड़ी, वैश्य, वर्ण, योनी, तारा और भकूट इन्हीं सब को मिलाकर कुल 36 गुण बनते हैं। जानिए कुंडली में कितने गुण मिलना माना जाता है जरूरी।

लड़के लड़की का कुंडली मिलान कैसे करें?

लड़का-लड़की कुंडली मिलान परिणामलड़का-लड़की कुंडली मिलान परिणामअष्टकूटअधिकतम अंकवर्ण1वश्य2तारा36 more rows

डेट ऑफ़ बर्थ से कुंडली कैसे देखे?

कुंडली देखने का सही तरीका [Free Online]ऑनलाइन कुंडली देखने के लिए आपको सबसे पहले www.freekundli.com पर जाना होगा।इसके बाद आपके सामने एक नया फॉर्म खुलकर आएगा |यहाँ आपको अपना नाम, जन्मतिथि, जन्म समय आदि सभी जानकारी भरकर सबमिट वाली बटन पर क्लिक करना होगा |इसके बाद आपके सामने आपकी जन्म कुंडली खुलकर आ जाएगी।More items •May 25, 2021

विवाह में क्या क्या देखना चाहिए?

विवाह मुहूर्त में लग्न का क्या है महत्व, जरूर पढ़ें शादी से पहले वर-वधु की जन्मलग्न या जन्मराशि से अष्टम् राशि का लग्न विवाह लग्न नहीं होना चाहिए। वर-वधु की जन्मपत्रिका का अष्टमेश विवाह लग्न में स्थित नहीं होना चाहिए। विवाह लग्न से बारहवें स्थान में शनि व दसवें स्थान मंगल स्थित नहीं होना चाहिए।

शादी के लिए कम से कम कितने गुण मिलने चाहिए?

विनोद सोनी पोद्दार ने बताया कि एक सफल शादी Successful marriage tips) के लिए कम से कम कुंडली के 28 गुण मिलने जरूरी होते है। पंडित जी बताते हैं कि, पंडित जी कहते हैं, “कुंडली में गण के 6, गृहमैत्री के 5 , नाड़ी के 8, वैश्‍य के 2, वर्ण का 1, योनी के 4, तारा के 3 और भकूट के 7 गुणों को मिलाकर टोटल 36 गुण होते हैं।

वर कन्या के गुण कैसे मिलाए?

गुण मिलान और परिहार वर एवं कन्या की राशीश मैत्री हो यानी वर कन्या के राशि के स्वामी राशीश परस्पर मित्र-मित्र या मित्र-सम हो। वर कन्या के राशि का स्वामी एक ही हो। दोनों का नवमांशेश परस्पर मित्र-मित्र या मित्र-सम हो या एक ही हो। नाड़ी दोष में दोनों की राशि एक और नक्षत्र भिन्न-भिन्न हों।

मनुष्य में कौन कौन से गुण होने चाहिए?

कुलीनता, 3. मन का संयम, 4. ज्ञान, 5. बहादुरी, 6 .ये 8 गुण जिन लोगों में होते हैं उन्हें मिलती है प्रसिद्धि, सभी बुद्धि कुलीन या अच्छा व्यवहार करने वाला मन का संयम रखने वाला ज्ञान पराक्रमी यानी बहादुर कम बोलने वाला क्षमता के अनुसार दान दूसरों का उपकार याद रखने वालेNov 28, 2019

नाम से जन्म कुंडली कैसे बनाएं?

कुंडली देखने का सही तरीका [Free Online]ऑनलाइन कुंडली देखने के लिए आपको सबसे पहले www.freekundli.com पर जाना होगा।इसके बाद आपके सामने एक नया फॉर्म खुलकर आएगा |यहाँ आपको अपना नाम, जन्मतिथि, जन्म समय आदि सभी जानकारी भरकर सबमिट वाली बटन पर क्लिक करना होगा |इसके बाद आपके सामने आपकी जन्म कुंडली खुलकर आ जाएगी।More items •May 25, 2021

फ्री में कुंडली कैसे बनाएं?

निम्नलिखित चरणों का पालन करके ऑनलाइन कुंडली प्राप्त करें:अपना नाम दर्ज करेंअपनी जन्म तिथि और जन्म समय दर्ज करेंअपने जन्म स्थान को दर्ज करेंअपना जेंडर डालेंअपना मोबाइल नंबर और मेल आईडी दर्ज करेंअपने प्रश्न का चयन करें

डेट ऑफ़ बर्थ से जाने शादी कब होगी?

पंचांग-पुराण से और कुंडली में सप्तम भाव में बुध हो, वह पाप ग्रह (राहु, केतु, मंगल, शनि) से दृष्ट या उनके साथ नहीं हो तो ऐसे में विवाह 22 साल की आयु तक हो जाता है। जिन लोगों की कुंडली के सातवें घर में बुध हो तो उनकी शादी का योग 20 से 25 साल की उम्र में होता है।

जन्म तारीख से जाने विवाह कब होगा?

यदि जन्म कुंडली में विवाह के योग नहीं होंगे तो शादी होना असंभव है। - जन्म कुण्डली में जब अशुभ या पापी ग्रह सप्तम भाव, सप्तमेष व शुक्र से संबंध बनाते हैं, तो वे ग्रह विवाह में विलम्ब का कारण बनते हैं। इसके विपरीत यदि शुभ ग्रहों का प्रभाव सप्तम भाव, सप्तमेष व शुक्र पर पड़ता हो तो शादी जल्द होती है।

शादी की उम्र कैसे पता करे?

विवाह रेखा अगर कनिष्ठा उंगली और हृदय रेखा के बिल्कुल बीच में है तो शादी 30 से 32 साल की उम्र में होगी।

शादी के लिए गुण कैसे मिलाए जाते हैं?

क्या नाम से गुण मिलान मुमकिन है? नाम के अनुसार कुंडली मिलान का अर्थ होता है कि लड़का और लड़की दोनों के नाम का नक्षत्रों के हिसाब से गुण मिलान करना। इसमें दोनों के नाम से पता लगाया जाता है कि उनके कितने गुण मिल रहे हैं और इनकी शादी कैसी निभेगी। गणना के अनुसार 36 गुण मिलने पर विवाह के लिए शुभ संकेत माना जाता है।

कुंडली से कैसे जाने विवाह कब होगा?

अगर आपकी जन्‍मकुंडली के सातवे भाव में बुध या कोई पाप ग्रह जैसे राहु, केतू, मंगल शनि से दृष्‍ट या इने साथ ना हो तो ऐसे में आपका विवाह 22 साल की उम्र से पहले ही हो जाता है। वहीं सप्‍तम भाव में बुध बैठा हो तो उस जातक का विवाह 22 से 25 साल की उम्र में होता है। अगर राहु या शनि का प्रभाव हो तो 27 की उम्र में विवाह होता है।

Reach out

Find us at the office

Ruebusch- Nedd street no. 4, 92509 George Town, Cayman Islands

Give us a ring

Fortino Moredock
+85 633 466 265
Mon - Fri, 10:00-22:00

Write us